Home taliban  महिलाओं ko मंत्री nahi बनाएगा तालिबान, कहा- उन्हें bachcha hi paida karna चाहिए,पीएचडी aur मास्टर डिग्री ki koi वैल्यू nahi

 महिलाओं ko मंत्री nahi बनाएगा तालिबान, कहा- उन्हें bachcha hi paida karna चाहिए,पीएचडी aur मास्टर डिग्री ki koi वैल्यू nahi

0
 महिलाओं ko मंत्री nahi बनाएगा तालिबान, कहा- उन्हें bachcha hi paida karna चाहिए,पीएचडी aur मास्टर डिग्री ki koi वैल्यू nahi

 महिलाओं ko मंत्री nahi बनाएगा तालिबान, कहा- उन्हें bachcha hi paida karna चाहिए

अफगानिस्तान mein तालिबान ke खिलाफ प्रदर्शन जारी hain. तालिबान ke प्रवक्ता सैयद जकीरूल्लाह हाशमी ne कहा hai ki महिलाओं ko bachcha paida karna चाहिए। उनका कैबिनेट mein होना जरुरी nahi hain. हाल hi mein तालिबान ne अपनी कैबिनेट बनाई hain. is कैबिनेट mein 33 लोगों ko शामिल kiya gya hai, लेकिन kisi bhi महिला ko जगह nahi di गई hain. तालिबानी प्रवक्ता ne अब महिलाओं ko लेकर कहा hai ki ek महिला मंत्री nahi बन सकती hain. yeh ऐसा hai जैसे उसके गर्दन par koi चीज रख dena jise वो nahi उठा सकती hain. महिलाओं ke liye कैबिनेट mein होना जरुरी nahi hain. उन्हें bachche paida karna चाहिए। महिला प्रदर्शनकारी अफगानिस्तान ki सभी महिलाओं ka प्रतिधिनत्व nahi kar रही hain.

पीएचडी aur मास्टर डिग्री ki koi वैल्यू nahi, लोग बोले- ‘शर्मनाक’ तालिबान ke naye शिक्षामंत्री ka बयान

तालिबान (taliban) ko अफगानिस्तान par kabza किए अभी ek महीना पूरा nahi hua, is बीच मंगलवार ko naye मंत्रिमंडल ka ऐलान kiya gya hai, जिसके तहत अफगानिस्तान mein सरकार चलाई जाएगी. तालिबान ke सर्वोच्च नेता हैबतुल्लाह अखुंदजादा ne काबुल par 15 अगस्त ke कब्जे ke बाद पहली baar सार्वजनिक बयान दिया ki अफगानिस्तान mein शासन aur जीवन se जुड़े सभी मामले शरिया कानूनों ke तहत चलाए जाएंगे.

भले hi is कट्टरपंथी समूह ne विश्व mein मान्यता प्राप्त karne ke liye naye, बेहतर aur उदार नजरिये ka वादा kiya hai, लेकिन वास्तविकता aur उसके नेताओं ki घोषणाओं ko देखते हुए is par अभी se hi सवाल उठने लगे hain.

सोशल मीडिया par ek वीडियो वायरल ho raha hai जिसमें तालिबान ke शिक्षा मंत्री शेख मौलवी नुरुल्ला मुनीर ne उच्च शिक्षा ki प्रासंगिकता par सवाल उठाए hain. Kisi पीएचडी ya मास्टर डिग्री ki आज वैल्यू nahi hain. Aap देख रहे hain ki मुल्ला aur तालिबान jo आज सत्ता mein hain, उनके पास पीएचडी, एमए ya हाईस्कूल ki डिग्री nahi hai, लेकिन ये लोग sabse महान hain. शेख मौलवी नुरुल्ला मुनीर ये वीडियो mein कह रहे hain. Jaisa ki mana ja raha tha, is टिप्पणी ki भारी आलोचना ki ja रही hai. Is par ek यूजर ne कमेंट kiya ki ये आदमी शिक्षा ke बारे mein क्यों baat kar raha hai. Ek यूजर ne लिखा ki बताइये उच्च शिक्षामंत्री ka कहना hai ki उच्च शिक्षा इसके लायक nahi hai. Ek ne लिखा ki शिक्षा ke बारे mein is तरह ke शर्मनाक विचार, ऐसे लोगों ka सत्ता mein होना विशेष रूप se युवाओं aur बच्चों ke liye विनाशकारी hai.

गौरतलब hai ki तालिबान ne नई सरकार ke liye प्रमुख पदों ki घोषणा kar di. मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद ko नई सरकार ka नेता बनाया gya hai जिन्हें संयुक्त राष्ट्र ne प्रतिबंध सूची mein rakha hua hai. वहीं तालिबान ke सह-संस्थापक अब्दुल गनी बरादर उनके डिप्टी होंगे. तालिबान ke आंतरिक कामकाज aur नेतृत्व लंबे समय se गोपनीय रहे hain, तब bhi jab उन्होंने 1996 se 2001 tak अफगानिस्तान par शासन kiya tha. वैसे अभी bhi कई कैबिनेट पदों ki घोषणा बाकी hai.

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here